चंडीगढ़ से नॉन स्टॉप उड़कर पहुंचा असम भारत का चिनूक हेलीकॉप्टर

सबसे लंबी नॉन स्टॉप उड़ान। 

भारतीय वायु सेना के चिनूक हेलीकॉप्टर ने चंडीगढ़ से असम के जोरहाट तक बिना रुके उड़ान भरी है, जो देश में एक हेलीकॉप्टर की सबसे लंबी नॉनस्टॉप उड़ान है। इस दौरान हेलीकॉप्टर ने 1910 किलोमीटर की दूरी 7 घंटे 30 मिनट में तय की। 

chinook

रक्षा प्रवक्ता ने कहा कि यह उपलब्धि चिनूक की क्षमताओं के साथ-साथ वायुसेना की परिचालन योजना और क्रियान्वयन के कारण हासिल की गई है। चिनूक हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल इंसानों व सामान के परिवहन के लिए किया जाता है। इसके अलावा यह मानवीय और आपदा राहत कार्यों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 

भारत के पास 15 चिनूक हेलीकॉप्टर। 

भारत ने सितंबर 2015 में बोइंग के साथ 8,048 करोड़ रुपए में 15 चिनूक हेलीकॉप्टर खरीदने का करार किया था। कंपनी ने मार्च 2020 तक भारत को सभी हेलीकॉप्टर सौंप दिए थे। 

चिनूक को वायु सेना में किया गया शामिल। 

हेवी लिफ्ट हेलीकॉप्टर चिनूक वायुसेना में 25 मार्च 2019 को शामिल हुआ था। इस दिन चंडीगढ़ स्थित एयर फोर्स स्टेशन में हुए एक कार्यक्रम में वायुसेना के बेड़े में 4 चिनूक शामिल किये गए थे। 

रात के अंधेरे में ऑपरेशन करने में सक्षम। 

चिनूक हेलीकॉप्टर दिन के साथ-साथ रात में भी मिलिट्री ऑपरेशन करने में सक्षम है। 2 रोटर इंजन से लैस चिनूक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में अधिकतम में 11 टन पेलोड ले जाने में सक्षम है। यह हेलीकॉप्टर उच्च हिमालई क्षेत्रों में भी ऑपरेशन कर सकता है। चिनूक का परीक्षण दुनिया भर की सबसे विषम परिस्थितियों में किया जा चूका है। 

गेमचेंजर की भूमिका। 

तत्कालीन वायु सेना प्रमुख बीएस धनोवा ने चिनूक खूबियों को गिनाते हुए कहा था कि इसे वायुसेना में शामिल करना है ऐसे ही गेमचेंजर साबित होगा, जैसे लड़ाकू बेड़े में राफेल को शामिल करना था। 

तारीख: 14/04/2022 

लेखक: राकेश कुमार। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.