विश्व स्वास्थ्य दिवस पर विशेष, जाने इतिहास थीम और महत्व

विश्व स्वास्थ्य दिवस के इतिहास। 

स्वास्थ्य समस्याओं पर दुनिया भर के देशों के आपसी सहयोग के लिए 7 अप्रैल 1948 को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की स्थापना हुई थी। इस प्रकार 7 अप्रैल को ‘विश्व स्वास्थ्य दिवस’ के रूप में भी मनाया जाता है। पहला विश्व स्वास्थ्य दिवस 7 अप्रैल 1950 को आयोजित किया गया था और उसके बाद हर साल से मनाया जा रहा है। 

Vishwa Swasthaya Diwas

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार स्वास्थ्य केवल बीमारियां या दुर्बलता ना होने तक ही सीमित नहीं है बल्कि पूरी तरह से शारीरिक, मानसिक और सामाजिक खुशहाली प्राप्त करने की स्थिति ही स्वास्थ्य है। अच्छा स्वास्थ्य बगैर किसी नस्ल, धर्म, राजनीतिक विश्वास या आर्थिक या सामाजिक स्थिति के भेद के बिना प्रत्येक मनुष्य के मौलिक अधिकारों में से एक है। 

विश्व स्वास्थ्य दिवस 2022 की थीम। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, महामारी, प्रदूषण होती पृथ्वी, कैंसर व अस्थमा और हृदय रोग जैसी बढ़ती बीमारियों के बीच, डब्ल्यूएचओ इस ‘विश्व स्वास्थ दिवस 2022’ पर इंसानों और पृथ्वी को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक तत्काल कार्यों पर वैश्विक ध्यान केंद्रित करेगा। 

इस वर्ष विश्व स्वास्थ्य दिवस की थीम है।  हमारी पृथ्वी हमारा स्वास्थ्य

वर्तमान स्वास्थ्य संबंधित हालात। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दुनिया की 99% आबादी ऐसी हवा में सांस ले रही है, जिसका वायु प्रदूषण का स्तर अंतरराष्ट्रीय स्वीकृत मानकों से ज्यादा प्रदूषित है। डब्ल्यूएचओ के आंकड़ों के अनुसार, दुनिया भर में हर 1 मिनट पर 13 लोगों की मृत्यु वायु प्रदूषण के कारण हो जाती है, जिनमें कैंसर, हृदय संबंधी रोग हैं। वही, दुनिया में 3.6 अरब लोगों के पास सुरक्षित टॉयलेट नहीं है। 

पर्यावरण में सुधार के लिए क्या करें। 

ट्रांसपोर्ट: हफ्ते में एक बार पैदल चले या साइकिल का प्रयोग करें। पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल अच्छा होगा।
ऊर्जा: अक्षय ऊर्जा का इस्तेमाल करें। जरूरत ना होने पर लाइट बंद करें।
पोषण: किराने का सामान स्थानीय उत्पादको से खरीदें हाय प्रोसैस्ड फूड से बचें। 
लाइफस्टाइल: हेल्दी लाइफ़स्टाइल अपनाएं। स्मोकिंग जैसी बुरी आदतों को छोड़ें। 
तारीख:07/04/2022 
लेखक: शत्रुंजय कुमार। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.